ओ मईयां तूने का ठानी मन में... भक्ति गीत-

ग्राम-सहसपुर, तहसील-चौथर, थाना-सोहागी, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश ) से विनीत कुमार यादव एक भक्ति गीत सुना रहे हैं:
ओ मईयां तूने का ठानी मन में-
राम सिया भेज दई रे वन में-
जन्म भरत तेरा ही जायो-
तेरी करनी देख लजायो-
अपना अवधपुर आप गवायो-
भरत की नजरन में-
राम सिया भेज दई वन में-
अकेले तूने का ठानी मन में-
महल छोड़ वंहा नही रे मढ़िया-
सिया सुकुमारी संग दो भईया-
ओ मईयां तूने का ठानी मन में-
राम सिया भेज दई रे वन में...

Posted on: Sep 22, 2019. Tags: MP REWA SONG VINIT KUMAR

अभिनंदन हम करते दिल से सीजीनेट को अभिनंदन...स्वागत गीत-

ग्राम, पोस्ट-पडरी, तहसील-सिरमौर, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश यादव एक स्वागत गीत सुना रहे हैं:
अभिनंदन हम करते दिल से सीजी नेट को अभिनंदन-
सेवा देने वाले भईया बहनो को सत-सत वंदन-
सीजीनेट ने धूम मचाई सबको सच्ची राह बताई – बड़े काम का सीजीनेट स्वर भाई पेश किया सब का सच्चाई – आज लगाये हम सब मिलकर इसके माथे में चंदन-
हर गरीब की लड़ी लड़ाई घर घर अलग जगाया ....

Posted on: Sep 18, 2019. Tags: MP RAMESH YADAV REWA SONG

हमसे जुलुम जेठरानी करे बरजा राजा जी...लोक गीत

ग्राम-साहपुर, पोस्ट-त्योथर जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से विनीत कुमार यादव एक लोक गीत सुना रहे हैं:
हमसे जुलुम जेठरानी करे बरजा राजा जी-
आधी रात मोहे पनिया का भेजय-
घईला फोड़ जेठरानी धरे बरजा राजा जी-
आधी रात मोसे जेमना जेवावंय चूल्हा फोड़-
जेठरानी धरे बरजा राजा जी-
सोने के थाली में जेमना परोसेयों अरे ओके-
फेंक ससुआरी करे बरजा राजा जी-
हमसे जुलुम जेठरानी करे बरजा राजा जी...

Posted on: Sep 18, 2019. Tags: MP REWA SONG VINIT KUMAR YADAV

पहिल पहिल स्कूल गयेन...बघेली कविता-

ग्राम, पोस्ट-पडरी, तहसील-सिरमौर, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) रमेश प्रसाद यादव एक बघेली कविता सुना रहे हैं:
पहिल पहिल स्कूल गयेन, जब कापी मोड़ो का ना जानी-
गये पाछी बडिका लीहे, गठियाय रोटी औ पानी-
तो बईठ गयेन लाईन मा, बढ़िया पोल्थी मारे-
सरस्वती के मंदिर मा नहींन गयेन सहारे-
पंडित जी एक डंडा लीहिन, लागिन हमी पढावे-
या मेर के अक्षर बनवा, ढंग से लगिन बतावें...

Posted on: Sep 17, 2019. Tags: MP POEM RAMESH PRASAD YADAV REWA

लिखे बघेली कविता हमू, दाई रक्षा करे गणेश...बघेली कविता-

ग्राम पोस्ट-पडरी, तहसील-सिरमौर, जिला-रीवा (मध्यप्रदेश) से रमेश प्रसाद यादव एक बघेली कविता सुना रहे हैं :
लिखे बघेली कविता हमू, दाई रक्षा करे गणेश-
एक रहे गुरु एक रहे चेला-
जेखर किस्सा कहय रमेश – तो अनपढ़ चेला एक दिन, अपने गुरु बाबा से बोलिस-
अइसन घिरही पोहर भाषा, अपने मुह से बोलिस
पांव छुई हम रोज सकारे आशिर्वाद कभू ना दीहें...

Posted on: Sep 16, 2019. Tags: MP POEM RAMESH PRSAD YADAV REWA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download