जिसने भी सत्य को अपनाया, उसका ही जीवन धन्य हुआ...बाल कविताएँ

मालीघाट,जिला-मुजफ्फरपुर (बिहार) से नितेश कुमार कुछ बाल कविताएँ सुना रहे हैं:
जिसने भी सत्य को अपनाया-
उसका ही जीवन धन्य हुआ-
सबको सुख देकर ही ऐसा अदभुत पुण्य हुआ-
सत्य कहकर भले ही न जीते देश-
पर हृदयों पर अधिकार मिला-
सम्मान मिला विश्वास मिला-
उससे फिर सबका प्यार मिला...

Posted on: Dec 08, 2016. Tags: NITESH KUMAR

पट खोला छबीले भैरवनाथ हो...यात्रा भक्ति गीत

अशोक कोरी ग्राम-हरादौंहा, पंचायत-तेंदुनी, ब्लाक-जवा, जिला-रीवा, मध्यप्रदेश से एक भक्ति गीत सुना रहे है :
पट खोला छबीले भैरवनाथ हो-
तोरे द्वार जात्री खड़ी हो-
जलवा कईसे चढाऊ भोले नाथ-
जलवा त मछरी का झूठा हो-
दुधवा कईसे चढाऊ भोलेनाथ-
दूध त बछवा का झूठ हो-
पट खोला छबीले भैरवनाथ हो...

Posted on: Dec 08, 2016. Tags: ASHOK KORI

जब जानकारी हो आसान तो क्यों रहे परेशान...एड्स की जांच सरकारी अस्पतालों में मुफ्त की जाती है...

कई मेडिकल कालेज एवं अस्पतालों में परामर्श केंद्र होते है जिनमे एड्स से सम्बंधित परामर्श एवं जांच की सुविधा दी जाती है जांच के उपरांत एच आई वी संक्रमित गर्भवती महिलाओं को ए आर व्ही द्वारा आजीवन मुक्ति दी जाती है एवं नवजात शिशुओ को लीवर पिल सिरप पिलाया जाता है ताकि माता से शिशु में एच आई व्ही संक्रमण न हो । एच आई व्ही संक्रमित महिलाओ के शिशुओ में संक्रमण की संभावना रहती है जन्म से 6 सप्ताह के भीतर निःशुल्क जांच के द्वारा एच आई व्ही संक्रमण का पता किया जाता है जागरूकता हेतु कार्यक्रम एवं निःशुल्क कंडोम वितरण किया जाता है सभी एड्स सम्बन्धी परामर्श एवं जानकारी हेतु संपर्क करे टोल फ्री@8097। सुनील कुमार@8889761684

Posted on: Dec 08, 2016. Tags: SUNIL KUMAR

जमीन वालों को बस इतनी जिंदगी दे दे...दो कवितायेँ

हल्द्वानी नैनीताल (उतराखंड) से इशान पत्र कुछ कवितायेँ सुना रहे हैं:

जमीन वालों को बस इतनी जिंदगी दे दे-
हसी बहारों को फूलों को जिंदगी दे दे-
वो सोच में भी अगर, कांप रूह कांप उठे-
मरे जमीर को बस इतनी जिंदगी दे दे-

“अपने देश की स्वाभिमान”
मैं वह लखीर हूँ, पत्थर की नही मिट सकता-
मैं का हौसला हूँ यू ही नही चुक सकता-
मैं तो डोर हूँ थामे है तिरंगे को-
लगा लो कोई भी बोली नही बिक सकता-

Posted on: Dec 08, 2016. Tags: IASHAN PATRA

आपका स्वास्थ्य आपके मोबाइल में: मिर्गी रोग के बारे में भील आदिवासी ज्ञान

ग्राम भेड़िया, तहसील सोंधवा, जिला अलीराजपुर (मध्यप्रदेश) से भुवान सिंह चोंगड़ के साथ उपस्थित है भील आदिवासी वैद्य भूरला भाई जो मिर्गी की बीमारी के बारे में बता रहे हैं । वे कहते हैं लाल कांदा अर्थात् प्याज दो किलो ले ले और उसे पीस लें और प्रतिदिन तीन खुराक लेवे सुबह, दोपहर तथा शाम इससे मिर्गी की बीमारी में शीघ्र लाभ मिलता है | वे आगे बता रहे हैं कि सुवर तथा खरगोश का खून पीने से भी मिर्गी की बीमारी में आराम मिलता है | भूरला भाई गाँव के वैद्य हैं और वे यह दावा करते हैं कि इस तरह से उन्होंने कई लोगों को इस रोग से मुक्ति दिलाई है । स्वास्थ्य स्वर इस जानकारी के बारे में कोई राय नहीं रखता है । आप इस बारे में अधिक जानकारी के लिए आप भुवान जी से 9753250250 पर संपर्क कर सकते हैं ।

Posted on: Dec 07, 2016. Tags: BHUWAN SINGH CHOUNGAD

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download