गोंड आदिवासी समाज और उनके देवी देवता ( गोंडी में सन्देश) -

जिला-आदिलाबाद (तेलंगाना) से नरसिंह राव मड़ावी के साथ में आज चाहाकाडी दसरू जी हैं जो गोंडी भाषा में बोल रहे है कि गोंड समाज और उनके देवी देवताओं का निर्माण कैसे हुआ है. चार देव का निर्माण कैसे हुआ है | हमारे इतने बड़े समाज का निर्माण कैसे हुआ है और 5 देव, 6 देव, 7 देव आदि इस तरह से कई रूप में हमारे देव है और कैसे उनका जन्म कैसे हुआ है ये सब आदिवासियों के घट कहलाते है और इसी के अनुसार हमारे रीति-रिवाज और कानून चलते हैं ऐसा इनका कहना है | वे बता रहे कि कुपार लिंगो और जंगो बाई रायतार गोंड समाज के देवी देवता हैं जिनकी वे पूजा करते हैं यह सब व्यवस्था कैसे बनी इसके बारे में जानना चाहिए. नरसिंह राव मड़ावी@9618275718

Posted on: May 30, 2017. Tags: NARSINGH RAO ADILABAD

मन में तोरा बड़ा देव, जप ले जय सेवा रे...गोंडवाना सेवा गीत -

ग्राम-टांकी, पोस्ट-मलगा, तहसील-कोतमा, जिला-अनूपपुर (मध्यप्रदेश) से नरेश सिंह एक गोंडवाना सेवा गीत सुना रहे है :
मन में तोरा बड़ा देव, जप ले जय सेवा रे-
जब जब देख ले से, सेवा में मेवा है-
जय सेवा मन्त्र ले तन मन जागे-
दुख दर्द में टोना जादू छोड़ भागे-
निति नियम रे निति मेवा रे, मन तोर बड़ा देव है-
जप ले जय सेवा रे, तन में तोरा बड़ा देव है-
जप ले जप ले, सेवा में मेवा रे-
मेहनत करके मीठा फल खावे,
भगवन के चक्कर में भूखा मर जावे रे...

Posted on: May 29, 2017. Tags: NARESH SINGH

बेहद चन्दा गन्दा है, लड़का सचमुच गन्दा...बाल कविता-

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलाश पोया कविता सुना रहे हैं :
बेहद चन्दा गन्दा है,लड़का सचमुच गन्दा-
हँसता है तो ऐसे जैसे आसमान का चंदा है-
रोता है तो ऐसे जैसे और नहीं कुछ धंधा है-
चुप करने की हर कोशिश पर देता फेर वो रमदा है-
वैसे तो आजकल सभी का वक्त चल रहा मंदा है-
इसके कारण नाना जी का चौपट सारा धंधा है...

Posted on: May 27, 2017. Tags: KAILASH SINGH POYA

दुष्टों के बीच दोस्ती अधिक देर तक नहीं चलती...कहानी -

एक बार गाँव में एक महात्मा आये, गाँव के लोगो ने श्रद्धा से उनके रहने की व्यवस्था की प्रतिदिन ग्रामवासी उनके लिए खाने का प्रबंध कर देते इस तरह से महत्मा का जीवन यापन हो जाता था जब प्रबंध नहीं हो पता तो उपवास रख लेते थे कुछ दिनों बाद महात्मा ने लगातार उपवास किया | तब लोगो ने एक दुधारू गाय ला कर दी जिसे चुराने के लिए एक चोर ने सोची और चोरी करने के लिए निकला तभी उसे रास्ते में एक व्यक्ति मिला जो भूत था उन दोनों में मित्रता हुई और दोनों अपने काम के लिए चले लेकिन जैसे ही काम करने को गए दोनों का विवाद हो गया और दोनों आपस में लड़ने लगे जिससे शोर हो गया जिससे दोनों पकडे गए इससे यह निष्कर्ष निकलता है दुष्टों के बीच दोस्ती अधिक देर तक नहीं चलती। उषा सिंह उइके@7909655194

Posted on: May 27, 2017. Tags: USHA SINGH UIKEY

सगा सोयरा सुमिरन करे फाड़ा पेड़ दरिदियान...गोंडवाना भक्ति गीत -

ग्राम-देवरी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से कैलाश सिंह पोया गोंडवाना भक्ति गीत सुना रहे हैं :
सगा सोयरा सुमिरन करे फाड़ा पेन दरिदियान-
कारज सकल पूरण होय मिले शक्ति समान-
परम शक्ति ध्यान धरी-
सिद्ध शक्ति सेवा तेहि के कारज सकल प्रभु-
सिद्ध करे फड़ा पेन...

Posted on: May 26, 2017. Tags: KAILASH SINGH POYA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download