5.6.31 Welcome to CGNet Swara

चलो दीदी चलो भईया ग्रामसभा जाएंगे...ग्रामसभा गीत-

जिला-बैतूल (मध्यप्रदेश) से मोहन यादव सीजीनेट के साथियों को एक ग्रामसभा गीत सुना रहे है:
चलो दीदी चलो भईया ग्रामसभा जाएंगे-
आपस सीखेगे साथ-साथ गाएंगे-
साथ-साथ आपस में-
ग्राम सभा की बैठक में हम ग्रामसभा की बैठक में-
हम अपनी बात रखेंगे ग्रामसभा जाएंगे-
चलो दीदी चलो भईया ग्रामसभा जाएंगे...

Posted on: Jul 31, 2018. Tags: MOHAN YADAV SONG

किसान स्वर : हमारे गांव में 600 में से 50 लोग आज भी जैविक खाद का उपयोग कर खेती करते हैं-

ग्राम पंचायत-बेंदोरा, प्रखण्ड-चैनपुर, जिला-गुमला (झारखण्ड) से आदिवासी किसान विष्णु खैरवार, सहदेव नायक, अंसोलेम बाड़ा और देवलाल कुजूर मोहन यादव से बात कर रहे हैं, वे बता रहे हैं कि वे अपने वहां खेती में आषाढ़ के महीने में में फसलो की कई देसी किस्मो की बुआई करते हैं जिसमे ललाट धान, हीराफूल, जीराफूल, गोड़ा, मडुवा, मक्का, गेहूल, गोपालभोग, दहिया, छोटा दहिया, अरहर, बोका धान, कला मदानी, छोटा कला मदानी, बच्चा कला मदानी, जीली, करनी, डाँड़ जीनी, गेंदाबूल, गाड़िया धान, पुलकोभी, जबाफूल आदि शामिल हैं, उनके गांव में करीब 600 किसान हैं, जिसमे लगभग 50 किसान आज भी गोबर खाद का उपयोग खेती में करते हैं

Posted on: Jul 26, 2018. Tags: AGRICULTURE MOHAN YADAV VISHNU KHAIRWAR

तेंदू ज्यादा फलने पर बारिश कम, ज़्यादा पत्ते और कम फल होने पर बारिश अधिक होती है...

ग्राम-खोहिर, ब्लाक-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से मोहन यादव के साथ एक साथी मरावी जी है | उनके गाँव में टीवी और रेडियो नहीं है वे मौसम में होने वाले बदलाव को प्रकृति से कैसे जानते है उनके बारे में बता रहे है. वे बता रहे हैं कि इस साल बारिश कम होने वाली है या ज्यादा वो लोग कैसे अनुमान लगाते है. पशु पक्षी और पेड़ पौधो को देखकर भी गाँव के लोग अनुमान लगा लेते है जैसे तेंदू का फल जंगल में ज्यादा लगता है तो बारिश कम होने की आशंका होती है और अकाल पड़ने की आशंका होती है और ज्यादा बारिश होने की संभावना तब होती है जब पेड़ो में पत्तियां ज्यादा लगती है और फल कम लगते है| मोहन यादव@8224946705.

Posted on: Jun 12, 2018. Tags: MOHAN YADAV

हाय रे हाय रे, मेला में अकेली भयली...नागपुरी गीत

ग्राम-धेलकच्छ, तहसील-प्रतापपुर, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सीता नागपुरी भाषा में एक गीत सुना रही है:
हाय रे हाय रे, मेला में अकेली भयली, अरे रहे मेला रहे मेला, अगम ठेला, ठेला रे-
हाय रे मेला में अकेली भयली-
चारों ओर दीदी संगी, चारों ओर पिया संगी, दीदी को कहा ना मेला में अकेली भयली-
रहे मेला रहे मेला, अगम ठेला, ठेला रे, हाय रे मेला में अकेली भयली-
हाय रे हाय रे, मेला में अकेली भयली...

Posted on: May 17, 2018. Tags: MOHAN YADAV

नयन खोलो नयन बोलो, पुजारी दुवार पे आया हूँ...गीत-

ग्राम-कुलफा, ब्लाक-ओडगी, जिला-सूरजपुर (छत्तीसगढ़) से सुंदरी साकेश एक गीत सुना रही हैं :
नयन खोलो नयन बोलो, पुजारी दुवार पे आया हूँ-
मईया के दुवारे अंधरी आया हो-
आँख दे दो तो घर जाना-
नयन खोलो नयन बोलो, नयन खोलो नयन बोलो...

Posted on: May 15, 2018. Tags: MOHAN YADAV

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »


Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download


From our supporters »