जीवन की नैया है बड़ा कमजोर, टूट न जाये लगाओ न जोड़...

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कविता सुना रहा है:
जीवन की नैया है बड़ा कमजोर,
टूट न जाये लगाओ न जोड़,
पकड़ी कलाई, समझ कमजोर,
तोडना न सैयां, बंधा हुआ डोर,
खनकती है घुंगरू बंधी है जोड़,
टूट जाये जोड़ी, बिखर जाये ढोर...

Posted on: May 20, 2019. Tags: CG CHHATTISGARH KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH

उडती है धूल हवा के संग, संग रहती है काँटा, धरी फूलों के संग-कविता

ग्राम -तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कविता सुना रहे है:
उडती है धूल हवा के संग, संग रहती है काँटा, धरी फूलों के संग|
आंखो के काजल मांग का सिन्दूर, पास रहना सैयां या रहना दूर|
छोटी सी घाव बन जाती नासूर, जिद न करना सैयां मै हु मजबूर|
आम के डाली मै कुक रही कोयल, पिया के याद से बजती पेर के पायल|
छति है काँटा दिल के पास, तू सैयां नहीं मेरी तू सरकार...

Posted on: May 20, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI POEM RAIGARH

मज़ धार धार मे छोड़- गीत

ग्राम -तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक गीत सुना रहे है:
छोड़ न जाना साथी,
मज़े धार धार मे छोड़|
मै हु अनाड़ी नहीं आता तेरना,
हाथ पकड़ कर उस पार ले जाना|
छोड़ न जाना नहीं साथी,
मज़े धार धार मे छोड़|
सर के भरोसा पकड़ी मे हाथ,
चुडा न लेना अपना देकर हाथ|
छोड़ न जाना साथी, मज़े धार धार मै छोड़...

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH SONG

बादल हा मांदर बजावत हवे बिजली के संग...कविता

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैया लाल पडियारी एक कविता सुना रहा है:
झूमत हवे रुख-राई खोका हवा के संग-
बादल हा मांदर बजावत हवे बिजली के संग-
छलकत हवे नदी-नरवा कुरकुट-कचरा के संग – बही-बही जावत हवे दुल्हा अपन पीया के संग-
हरी भरी भुइयां अपन माती के संग-
बिखरे हवे खुशबु मस्त मतंग...

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH

बहरी लोगो और बहरी कुत्तो से सावधान रहना चाहिए -कहानी

ग्राम-तमनार, जिला-रायगढ़, (छत्तीसगढ़) से कन्हैयालाल पडियारी एक कहानी सुना रहा है जिसका सीर्सक है- “बहरी लोगो और बहरी कुत्तो से सावधान रहना चाहिए ”
शहर मै रघु हलवाई का होटल था, होटल अच्छा चलता था और लोग भी काफी रहते थे| उसके होटल के सामने 5-6 कुत्ते हमेशा रहते थे| एक दिन भोला किसान सामान लेने शहर चला गया और उसके पीछे पीछे उसका कालू कुत्ता भी चला गया|
भोला किसान पहले रघु हलवाई के होटल पर नाश्ता करने गया| उसके कालू कुत्ते को देख कर, होटल के बहर बेठी कुत्ते भोक उठी और वहाँ कुत्तो के बीच झगड़ा हुआ| होटल मै लोग डर कर आधा अधुरा खाना छोड़ के बिना पैसा देके भाग गए| रघु हलवाई और उसके नौकर भी छुप गए और मोका देख कर भोला किसान भी वहां से निकल पड़ा| कुत्तो का जगडा ऐसा था के होटल का सारा सामान इधर उधर बिखर कर ख़राब हो गया| कालू कुत्ता भी मोका देख कर खिसक गया| कुत्तो का झगडा कुछ कम हुआ और नौकरो ने उनको भगाया और सामान सही कर दिया| रघु हलवाई का उस दिन के कमाई लुट गयी|बहरी लोगो और बहरी कत्तु से सावधान रहना चाहेया|

Posted on: May 19, 2019. Tags: CG KANHAIYALAL PADIYARI RAIGARH STORY

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download