हमारे यहां बाजार में जरुरत की सभी चीजे उपलब्ध होती है...

कोंटा, जिला-सुकमा (छत्तीसगढ़) से राव बता रहे हैं| वे एक व्यापारी हैं| वहां सप्ताह में 2 दिन बाजार लगता है| बुधवार को चिंतूर और गुरुवार को कोंटा में बाजार लगता है| बाजार में उड़ीसा आंध्रप्रदेश और छत्तीसगढ़ से लोग आते हैं| बाजार के आस पास के लोग चीजे लाकर बेचते हैं| उसी से उनका जीवन चलता है| ये उनके रोजगार का एक माध्यम है| बाजार में सब्जी, कपड़े जरुरत की सभी चीजें उपलब्ध होती हैं|

Posted on: Jun 16, 2019. Tags: BHOLA BAGHEL CG KONTA STORY SUKMA

दाना पोयाम खेती के समय खेती और बाकी समय शहर में काम करते हैं...कहानी-

पाउरलंका, चिंतुर मंडलम, जिला-ईस्ट गोदावरी (आंध्रप्रदेश) से भोला गांव के निवासी दाना पोयाम से चर्चा कर रहे हैं| वे बता रहे हैं| कि वे खेती का काम करते हैं| और खेती के बाद जब काम नहीं होता तो शहर में जाकर काम करते हैं| पोयाम ने तेलगू भाषा में पढाई की है, और हिंदी भाषा भी जानते हैं| 20 साल से उस गांव में रह रहे हैं| वे अपने गांव में बच्चो को पढ़ाते हैं, और स्कूल में बच्चो को प्रवेश दिलाते हैं| जिससे वे पढ़ सके|

Posted on: Jun 14, 2019. Tags: ANDHRA PRADESH BHOLA BAGHEL EAST GODAVARI STORY

छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाको में हर घर में बीजा पंडुम मनाया जाता है...

ग्राम-डोंड्रा, विकासखण्ड-कोंटा जिला-सुकमा (छत्तीसगढ़) से सुभ्रा वट्टी बता रहे हैं| वे बीजा पंडुम त्योहार मना रहे हैं| वे अपने देवताओ को मुर्गी, सुवर, दारू चढ़ाते हैं, और देवी देवताओं की पूजा करते हैं| पूजा के समय वे महुआ के डाल का भी उपयोग करते हैं| हल्दी चावल चढ़ाते हैं| और प्रासाद खाते हैं| बीजा पंडुम उनका पहला पंडुम है| इसके बाद ही वहां खेती की शरुआत होती है| ये छत्तीसगढ़ के आदिवासी इलाको में हर घर में मनाया जाता है| ये उनका पारंपरिक त्योहार है| जो हर साल मनाया जाता है| इसे माटी त्योहार के नाम से भी जाना जाता है|

Posted on: Jun 10, 2019. Tags: BHOLA BAGHEL CG KONTA STORY

तेलंगाना में आदिवासी समुदाय खेती से पहले बीजा त्योहार मनाते हैं...

ग्राम-कोटुल, जिला-भद्रादी कोठागुडम (तेलंगाना) से भोला बघेल ग्रामवासियों के साथ चर्चा कर रहे हैं| वे बता रहे हैं| गांव में बीजा त्योहार मनाया जा रहा है| जिसमे महिलायें राह चलते लोगो को रोककर टीका लगाते हैं, और जाने वाले लोग उन्हें कुछ रुपये देते हैं| इसे माठी त्योहार के नाम से भी जाना जाता है| इसके बाद ही वे खेती का काम शुरु करते हैं| त्योहार में महिलायें सामूहिक गीत गाते हैं|

Posted on: Jun 10, 2019. Tags: BHADRADI KOTHAGUDAM BHOLA BAGHEL CULTURE SONG TELANGANA

आदिवासियों का महासम्मलेन 12-13 जून को कोंटा छत्तीसगढ़ में...सभी को आमंत्रण-

कोंटा (छत्तीसगढ़) से भोला बघेल बता रहे हैं| बुधवार 12 और गुरुवार 13 जून को कोंटा बस स्टैंड के सामने सुबह से शाम तक छत्तीसगढ़, तेलंगाना, आंध्रप्रदेश, उड़ीसा के आदिवासियों का महासम्मलेन होने जा रहा है| जिसमे वे सीजीनेट के सुनने वाले सभी श्रोताओ को आमंत्रित कर रहे हैं| कार्यक्रम में नृत्य संगीत के साथ आदिवासी संस्कृति पर विचार व्यक्त किये जायेंगे| कार्यक्रम में आदिवासी समाज के प्रतिष्ठित लोग शामिल होंगे| उसमे सभी शामिल हो सकते हैं| जानकारी के लिये दिये गये नंबर पर संपर्क कर सकते हैं : संपर्क नंबर@9490353568.

Posted on: Jun 09, 2019. Tags: BHOLA BAGHEL CG INFORMATION KONTA

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »


Environics Trust
Gates Foundation
Hivos
International Center for Journalists
IPS Media Foundation
MacArthur Foundation
Sitara
UN Democracy Fund


Android App »


Click to Download