Today's news from Newspapers in Gondi: 15th April 2014

बेगुनाहों की हत्या पर फिर आया नक्सलियों का माफीनामा
भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी है केंद्र सरकार: रमन
सीमावर्ती आंध्रप्रदेश से मजदूरी से ज्यादा मिर्ची लेकर लौटे ग्रामीण

Posted on: Apr 15, 2014, by Ramesh Kunjam

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है...

उठ जाग मुसाफिर भोर भई, अब रैन कहाँ जो सोवत है
जो सोवत है सो खोवत है, जो जगत है सोई पावत है
टुक नींद से अखियाँ खोल जरा, और अपने प्रभु में ध्यान लगा
यह प्रीत कारन की रीत नहीं, रब जागत है तू सोवत है

Posted on: Apr 14, 2014, by Shyamji Tekam

Primitive tribals worked in Tendu collection year back, still waiting for wages...

Bhanu Patel is calling from Dharampur village in Dharmajaigarh block of Raigarh district in Chhattisgarh. She says 30 Primitive Pando tribals worked last year in Tendu leaf collection and sold them to Govt. It is more than Rs 1 lakh rupees which is due to them but Govt and Bank officials are making them round from pillar to post. Please call District Forest Officer at 7587301686 to help these poor tribals. For more Bhanu Ji can be reached at 9424181437

Posted on: Apr 14, 2014, by Bhanu Patel

One who works for the poor should be made Prime Minister: Mundari song...

अभुआ आ बिसूंगा, अभुआ आ राज,
सिंगी भी अभुआ टुरेना अबूआ आ बिसूंगा
अबुआ बिसमरे अबुआ आ राज।
सिंगी चण्डू लेतागे टुरेना बिसुम गोट्ग मारेणा
मारे सालेया गिनक नकदुं तक दिनक ततक या।

Posted on: Apr 14, 2014, by Budhua Munda

ए भई मजूरदार आए श्रमिक येलगार अब तू भी आँखे तेरे खोल...संघर्ष गीत

ए भई मजूरदार आए श्रमिक येलगार अब तू भी आँखे तेरे खोल
ए काले धंधे करने वालो पे हल्ला बोल ए काले ए काले काले ...
श्रम करने वाले,मजूरों को काम नहीं दिनभर आराम नहीं
बराबर का दाम नहीं, नहीं मिलता मेहनत का मोल
काले धंधे करने वालो पर हल्ला बोल
हमने कमाया उसने ही खाया उसके बदले में हमको क्या दिया
नहीं मिलता मेहनत का मोल
ये नेता,अधिकारी बने भ्रष्टाचारी, हम गरीबों को बनाये भिखारी
अब बजा देंगे संघर्ष का ढोल

Posted on: Apr 14, 2014, by Premdas

« View Newer Reports

View Older Reports »

Recording a report on CGNet Swara

Search Reports »

Loading

Supported By »



Environics Trust
Hackergram
Hivos
International Center for Journalists
Janastu
Mojolab
UN Democracy Fund